एसजेवीएन को ग्‍लोबल सीएसआर उत्कृष्टता और लीडरशीप अवार्ड से सम्मानित किया गया

शिमला: एसजेवीएन द्वारा सीएसआर पहलों के उत्कृष्ट योगदान को ध्‍यान में रखते हुए कंपनी को मुंबई में वर्ल्‍ड सीएसआर कांग्रेस द्वारा सर्वश्रेष्ठ कोविड -19 समाधान हेतु सामुदायिक देखभाल के लिए विख्‍यात ग्लोबल सीएसआर एक्सीलेंस एंड लीडरशिप अवार्ड से सम्मानित किया गया है। एसजेवीएन की ओर से वरिष्ठ अपर महाप्रबंधक, श्री अवधेश प्रसाद ने वरिष्‍ठ सलाहकार, यूएनसीटीएडी, श्री एस.के. दत्त से यह अवार्ड एक भव्य पुरस्कार समारोह में प्राप्त किया।

इस अवसर पर संबोधित करते हुए श्री नन्‍द लाल शर्मा, अध्यक्ष एवं प्रबंध निदेशक ने कहा कि एसजेवीएन सदैव एक जिम्मेदार कारपोरेट निकाय रहा है और अपने हितधारकों एवं समाज के प्रति कारपोरेट सामाजिक उत्तरदायित्व (सीएसआर) गतिविधियों में अग्रणी रहा है। स्थापना के पश्‍चात से एसजेवीएन ने शिक्षा, स्वास्थ्य, स्वच्छता, ढांचागत विकास, महिला और बाल कल्‍याण, सततशीलता, प्राकृतिक आपदाओं के दौरान सहायता आदि शीर्षों के अंतर्गत विभिन्न सीएसआर गतिविधियों में 340 करोड़ रुपए से अधिक व्‍यय किया है।

श्री शर्मा ने आगे अवगत कराया कि, आरंभ में ही एसजेवीएन ने वैश्विक महामारी (कोविड -19) के खतरे को महसूस किया था और तुरंत राहत और सहायता उपायों के वितरण में प्रवेश किया, जिसमें केंद्र और राज्य सरकारों को उदार सहायता भी शामिल थी। एसजेवीएन ने पीएम केयर्स फंड और राज्य आपदा प्रबंधन प्राधिकरण निधि में भी योगदान दिया।

उन्होंने आगे बताया कि एसजेवीएन ने सक्रिय रूप से सुरक्षा और स्वच्छता की वस्तुओं जैसे मास्क, ग्‍लब्‍स, पीपीई किट, सैनिटाइज़र, कीटाणुनाशक आदि को लोगों में वितरित किया। महामारी के दौरान जरूरतमंदों के साथ-साथ विभिन्न स्वास्थ्य कार्यकर्ताओं को खाद्य सामग्री और स्थानीय समुदायों के घर-द्वार पर निर्बाध रुप से चिकित्सा सेवाएं प्रदान करना सुनिश्चित किया गया। एसजेवीएन ने हिमाचल प्रदेश राज्य में टीकाकरण के लिए कोल्ड चेन के बुनियादी ढांचे को मजबूत करने में भी योगदान दिया। इसके अलावा सरकारी अस्पतालों को वेंटिलेटर, ऑक्सीजन कंसंटेटर, ऑक्सीमीटर, फाउलर बेड जैसे चिकित्सा उपकरणों के लिए वित्तीय सहायता और आइसोलेशन बेड भी प्रदान किए गए।
—————— 0 ——————–

Share This Post:-
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *