मोदी सरकार में देश के हर नागरिक को अभिव्यक्ति की आजादी है :अमित शाह

केंद्रीय गृह मंत्री एवं भारतीय जनता पार्टी के निवर्तमान अध्यक्ष अमित शाह ने  दिल्ली विधान सभा चुनाव के दौरान रिठाला और जनकपुरी में आयोजित विशाल जन-सभाओं को संबोधित किया और झूठे वादों का जाल बुन कर दिल्ली की जनता को पिछले पांच सालों से गुमराह करने वाली केजरीवाल सरकार को लोकतांत्रिक माध्यम से करारा सबक सिखाने की अपील की। उन्होंने कहा कि दिल्ली को विकसित और देश की राजधानी को सुरक्षित करने का काम केवल और केवल भारतीय जनता पार्टी की सरकार ही कर सकती है।

श्री शाह ने कहा कि केजरीवाल सरकार ने लगातार पांच सालों तक केवल और केवल झूठ के आधार पर ही सरकार चलाई है। केजरीवाल जी ने 1000 स्कूल बनाने का वादा किया था जो शायद केवल कागजों पर ही बने हैं। केजरीवाल वर्ल्ड क्लास स्कूल करने का ढोंग करते हैं जबकि मटियाला में दिल्ली सरकार के स्कूल में बच्चे उस छत के नीचे पढने को मजबूर हैं जिसे गिराने की सिफारिश की जा चुकी है। बच्चों की जिंदगी से समझौता कर केजरीवाल सरकार बहुत बड़ा पाप कर रही है। उन्होंने कहा कि अरविन्द केजरीवाल ने युमुना को स्वच्छ करने की बात कही थी लेकिन यमुना साफ करना तो दूर की बात, वह तो और गंदी होती जा रही है। पिछले बार भी केजरीवाल ने यमुना साफ करने का झूठा वादा किया था, इस बार भी वे अगले पांच सालों में यमुना  को साफ करने का झूठा वादा कर रहे हैं। यदि केजरीवाल को यमुना स्वच्छ करना था तो प्रयागराज के कुंभ जाते और प्रधानमंत्री  नरेन्द्र मोदी  और योगी आदित्यनाथ ने जिस तरह से माँ गंगा के जल को निर्मल करने का महती कार्य किया, इससे सीख लेनी चाहिए थी। इतना ही नहीं, केजरीवाल ने तो दिल्ली की जनता को गंदा पानी पीने को मजबूर कर दिया। जो सरकार अपनी जनता को शुद्ध पीने का पानी तक नहीं दे सके, ऐसी सरकार को सत्ता में रहने का कोई हक़ नहीं है।

केंद्रीय गृह मंत्री ने कहा कि अरविन्द केजरीवाल ने पांच साल तक झूठे वादों के अलावा कोई और काम नहीं किया। केजरीवाल सरकार ने अनधिकृत कॉलोनियों को अधिकृत करने के मोदी सरकार के निर्णय में अड़ंगा लगाने की हर संभव कोशिश की लेकिन प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी जी ने 1731 कॉलोनियों को अधिकृत कर लगभग 50 लाख लोगों को उनके घर का मालिकाना हक़ दिलाया। हमने “जहां झुग्गी, वहां मकान” योजना के तहत हर झुग्गी के जगह दो कमरों का पक्का मकान देने का तय किया लेकिन केजरीवाल सरकार इसमें भी अड़ंगा लगा रही है। आप 8 फरवरी 2020 को दिल्ली प्रदेश की सरकार बदल दीजिये, दिल्ली की सारी झुग्गियों की जगह मकान देने का काम मोदी सरकार करने वाली है। हम केजरीवाल जैसे झूठे नहीं हैं। प्रधानमंत्री  नरेन्द्र मोदी  जो कहते हैं, करके दिखाते हैं क्योंकि मोदी है तो मुमकिन है।   श्री शाह ने कहा कि प्रधानमंत्री  नरेन्द्र मोदी  ने देश के 60 करोड़ गरीबों के घर में गैस, बिजली, पानी, शौचालय और स्वास्थ्य कार्ड पहुंचाने का प्रबंध किया है क्योंकि ये कार्य आजादी के 70 सालों में नहीं हुए थे। उन्होंने कहा कि अरविन्द केजरीवाल सरकार ने गरीबों का हक़ मारा है क्योंकि उन्होंने दिल्ली में न तो आयुष्मान भारत योजना लागू होने दी, न प्रधानमंत्री आवास योजना लागू होने दी, न अनधिकृत कॉलोनियों को अधिकृत किया और न ही वे दिल्ली की जनता को स्वच्छ पीने का पानी ही पहुंचा पाए। गरीबों का हक़ मारने वाला ऐसा मुख्यमंत्री हमने आज तक नहीं देखा। उन्होंने कहा कि मोदी सरकार ने दिल्ली के इन्फ्रास्ट्रक्चर, रोड और मेट्रो के डेवलपमेंट के लिए कई कार्य किया लेकिन कुछ कार्य दिल्ली प्रदेश सरकार ही कर सकती है लेकिन केजरीवाल सरकार है कि कुछ करती ही नहीं, केवल विज्ञापन का ढोल बजाती है।

गृह मंत्री ने कहा कि प्रधानमंत्री  नरेन्द्र मोदी  ने आजादी के 70 सालों से लटकी हुई हर समस्या का समाधान किया है चाहे वह धारा 370 और 35A का उन्मूलन हो, आतंकवाद पर करारी चोट हो, राम मंदिर के जल्द से जल्द निर्माण में सहयोग हो या फिर CAA को लागू करना। उन्होंने कहा कि हमने जम्मू-कश्मीर को भारत का अभिन्न अंग बना कर आतंकवाद को उखाड़ फेंकने के लिए धारा 370 का खात्मा किया और राहुल गाँधी एंड कंपनी और केजरीवाल एंड कंपनी इसके विरोध में खड़ी हो गई क्योंकि उन्हें अपने वोट बैंक की फ़िक्र देश से ज्यादा थी। इसी तरह जब हमने पाकिस्तान में घुस कर आतंकवादियों पर सर्जिकल और एयर स्ट्राइक किया, तब भी इन्हें जोरों की तकलीफ हुई क्योंकि इन्हें देश से ज्यादा अपने वोट बैंक की चिंता थी। इन लोगों ने प्रभु श्रीराम के भव्य मंदिर के निर्माण का भी विरोध किया, अदालतों में सुनवाई को लटकाया क्योंकि फिर से इन्हें अपने वोट बैंक की चिंता थी। इनके वोट बैंक कहाँ बैठे हैं, यह दिल्ली की जनता को भलीभांति मालूम है। लेकिन राहुल गाँधी एंड कंपनी और केजरीवाल एंड कंपनी को यह मालूम नहीं है कि हम भारतीय जनता पार्टी के कार्यकर्ता हैं, हम देश के लिए जीते हैं और देश के लिए मरते हैं। केजरीवाल सरकार पर हमला जारी रखते हुए श्री शाह ने कहा कि जेएनयू में देशद्रोही नारे लगाए गए। मोदी सरकार ने उन राष्ट्रविरोधी तत्वों को जेल में डाला लेकिन जब चार्जशीट दायर करने की बारी आई तो अरविन्द केजरीवाल ने अपने वोट बैंक की डर से इसकी परमिशन नहीं दी। मोदी सरकार में देश के हर नागरिक को अभिव्यक्ति की आजादी है लेकिन देश के खिलाफ बोलने वालों की जगह जेल में ही होगी। केजरीवाल जी दिल्ली की जनता को बताएं कि वे टुकड़े-टुकड़े गैंग के खिलाफ चार्जशीट फाइल करने की परमिशन क्यों नहीं दे रहे?    गृह मंत्री ने कहा कि प्रधानमंत्री  नरेन्द्र मोदी  ने आजादी के समय कांग्रेस सरकार की गलती को सुधारते हुए नागरिकता संशोधन कानून लागू कर पाकिस्तान, बांग्लादेश और अफगानिस्तान से जान बचा कर सम्मान की जिंदगी जीने की चाह में भारत आये हिंदू, सिख, बौद्ध, जैन, ईसाई और पारसी शरणार्थियों को भारत की नागरिकता दी है तो कांग्रेस, केजरीवाल की पार्टी, सपा, बसपा, तृणमूल और कम्युनिस्ट पार्टियां फिर से अपने वोट बैंक की लालच में इसका विरोध कर रही है और टुकड़े-टुकड़े गैंग के साथ खड़ी हो गई है। वे लोग डरे टुकड़े-टुकड़े गैंग से, अपने वोट बैंक से, हम किसी से नहीं डरते, हम वही करते हैं जो देश के लिए सही होता है।

श्री शाह ने कहा कि शाहीन बाग़ में CAA के विरोध के नाम पर देश के खिलाफ साजिश रची जा रही है। कांग्रेस और आप पार्टी ने अल्पसंख्यकों को गुमराह कर दिल्ली में दंगे करवाए। यदि ये लोग दोबारा दिल्ली की सत्ता पर काबिज हुए तो दिल्ली सुरक्षित नहीं बचेगी। आज अरविन्द केजरीवाल ने ट्वीट कर कहा कि भाजपा वाले शाहीन बाग़ में धरनों पर बैठे लोगों को समझाएं और रास्ता खुलवाएं। दंगा करवाएं केजरीवाल, शाहीन बाग़ के साथ खड़े होने की बाते करें केजरीवाल तो वहां बैठे लोग तो मुझसे ज्यादा अरविन्द केजरीवाल की ही बात मानेंगे। श्रीमान केजरीवाल में हिम्मत है तो वे जाकर शाहीन बाग़ में धरने पर बैठें और दिल्ली की जनता फैसला करे कि उन्हें धरने पर बैठने वाली केजरीवाल सरकार चाहिए या विकास के प्रति समर्पित भाजपा सरकार। उन्होंने कहा कि सोशल मीडिया में आजकल शरजील इमाम नाम के एक देशद्रोही शख्स का वीडियो वायरल हो रहा है जिसमें वह चिकेन नेक और पूरे नॉर्थ-ईस्ट को हिंदुस्तान से अलग करने की साजिश रच रहा है। मोदी सरकार ने दिल्ली पुलिस को कह कर शरजील इमाम के खिलाफ देशद्रोह का मुकदमा दायर किया है। श्रीमान केजरीवाल बताएं कि वे शरजील इमाम की गिरफ्तारी के पक्ष में हैं या नहीं। वे खुल कर ऐसे देशद्रोहियों के खिलाफ बातें क्यों नहीं करते क्या उनके लिए देश की एकता और अखंडता से ज्यादा अहमियत वोट बैंक रखता है।

Share This Post:-
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *