‘यज्ञ’ भारत की प्राचीन वैदिक-सनातनी संस्कृति का अभिन्न अंग है—-राज्यपाल

   दिल्ली।हरियाणा के राज्यपाल श्री बंडारू दत्तात्रेय ने श्री आद्या कात्यायनी शक्ति पीठ छतरपुर (दिल्ली) में आयोजित चार दिवसीय विश्वशांति महायज्ञ-2022 में भाग लिया और शांति व मानव कल्याण की कामना की।

    हरियाणा के राज्यपाल श्री बंडारू दत्तात्रेय ने मीडिया से बातचीत करते हुए कहा कि ‘यज्ञ’ हमारी प्राचीन वैदिक-सनातनी संस्कृति  का एक अभिन्न अंग रहा है। मानव कल्याण की दिशा में वर्तमान में इस वैदिक-सनातनी ‘यज्ञ’ प्रणाली को  और अधिक विस्तार दिया जाना चाहिए। हरियाणा के राजयपाल ने  ‘विश्व शांति महायज्ञ-2022’ के आयोजकों के लिए मंगलकामनाएं की।
    ‘विश्व शांति महायज्ञ-2022’ का आयोजन 21, 2022  अप्रैल से 24 अप्रैल,2022 तक नमो सद्भावना समिति एवं श्री सिद्धि बुद्धि गणेश कल्याण, श्री कनिकम देवस्थान,आंध्र प्रदेश द्वारा किया जा रहा है। ‘विश्व शांति महायज्ञ-2022’ में तपोवन पीठम तूनी, आंध्र प्रदेश के श्री श्री श्री सच्चिदानंद महाराज व आदेश अखाडा मध्य प्रदेश के श्री श्री श्री राजेश नाथ ने भी भाग लिया।
      

Share This Post:-
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *