ह्रदय रोग होने पर गरीब परिवारों की अब होगी मुख्यमंत्री राहत कोष से आसानी से मदद :—मनोहर लाल

चण्डीगढ।- मुख्यमंत्री श्री मनोहर लाल ने कहा कि मुख्यमंत्री राहत कोष के तहत प्रदेश के अत्यंत गरीब परिवारों के हृदय रोग जैसी गम्भीर बीमारियों का तुरंत एवं सुगमता से स्वास्थ्य सेवाओं का लाभ उपलब्ध करवाया जाएगा। इसके लिए जिला स्तर पर उपायुक्त की अध्यक्षता में कमेटी का गठन किया जाएगा। मुख्यमंत्री आज यहां भाजपा सेवा प्रकोष्ठ के पदाधिकारियों के साथ संवाद कर रहे थे।
मुख्यमंत्री ने कहा कि अत्यंत गरीब परिवारों को जिला स्तर पर हार्ट-अटैक जैसे रोगियों को उपचार के लिए दिक्कतें आने की शिकायतें मिल रही हैं, जिसके निवारण के लिए सरकार पूरी तरह से गम्भीर है। उन्होंने कहा कि इसके लिए जिलों में तीन वरिष्ठ अधिकारियों की कमेटी का गठन किया जाएगा। इस कमेटी में उपायुक्त के अलावा सिविल सर्जन एवं एक अन्य अधिकारी को शामिल किया जाएगा। इस समिति से भाजपा सेवा प्रकोष्ठ के जिला पदाधिकारी भी सम्पर्क में रहेंगे, ताकि राज्य के किसी भी व्यक्ति को समय पर सहायता प्राप्त हो सके।
मुख्यमंत्री ने कहा कि गरीब परिवारों को मकान की मरम्मत के लिए दी जाने वाली अनुदान राशि को
ऑनलाईन प्रक्रिया से शीघ्र उपलब्ध करवाया जाएगा, ताकि ऐसे परिवारों को किसी भी कारण से मकान खण्डित होने पर तुरंत लाभ मिल सके। उन्होंने कहा कि ऐसे परिवार जिनकी परिवार पहचान पत्र में वार्षिक आय 1.80 लाख रुपए तक होगी उन्हें स्वतः ही बीपीएल कार्ड उपलब्ध करवाए जाएंगे। इसके साथ ही जिन लोेगोें के पास आयु प्रमाण पत्र नहीं है, उनके लिए जिला स्तर पर मेडिकल बोर्ड का गठन किया जाएगा। बोर्ड में आयु सत्यापन कर प्रमाण पत्र जारी किये जाएंगे।
मुख्यमंत्री ने कहा कि आगामी एक वर्ष के दौरान जिन दो लाख परिवारों की वार्षिक आय एक लाख रुपए से कम है, उनकी आय बढाकर 1.80 लाख रुपए तक ले जाने का लक्ष्य रखा गया है। उन्होने कहा कि प्रदेश में युवाओं के कौशल विकास पर जोर दिया जा रहा है, जिसके लिए कौशल विकास विश्वविद्यालय की स्थापना की गई है। इसमें करीब 800 पाठयक्रमों में हुनर प्रशिक्षण दिया जा रहा है। हमारी सरकार समाज के गरीब से गरीब व्यक्ति को अंत्योदय परिवार कल्याण योजनाओं का लाभ देकर आर्थिक रुप से सशक्त बनाने का कार्य कर रही है।  इसके साथ ही सरकार के अलावा भाजपा ने पोर्टल बनाया है, जिस पर जनसेवा की इच्छा रखने वाले व्यक्ति स्वयं को पंजीकृत करवा सकते हैं। उन्होंने बताया कि इस पोर्टल पर अब तक 800 लोगों ने स्वेच्छा से स्वयंसेवक बनने के लिए पंजीकृत करवाया है।  
मुख्यमंत्री ने कहा कि पहले की सरकारों के दौरान राज का मतलब स्वार्थ, लूटपाट और भ्रष्टाचार हुआ करता था, परंतु हमने राज में इसके मतलब को बदलते हुए सेवा, त्याग और समर्पण को चरितार्थ किया है। पण्डित दीन दयाल उपाध्याय के अंत्योदय मिशन को लेकर हमने सामाजिक व आर्थिक विषमताओं को दूर करने का लक्ष्य रखा है, ताकि समाज के प्रत्येक व्यक्ति को सरल, सहज और उत्कृष्ट जीवन उपलब्ध करवाया जा सके।
प्रकोष्ठ के पदाधिकारियों ने मुख्यमंत्री श्री मनोहर लाल को हरियाणा रत्न की उपाधि से सम्बोधित किया और उन्हें सम्मान पूवर्क फोटो और पुस्तक भेंट की।
इस अवसर पर सेवा प्रकोष्ठ के प्रदेश संयोजक सतीश खोला, मुख्यमंत्री के ओएसडी भूपेश्वर दयाल, सह संयोजक प्रवीन सरदाना, कविन्द्र राणा, रमन सिंह, सोमनाथ सिंह, सुरेश सेनी, विवेक यादव, दलीप अवस्थी, मनोज कुमार सहित बडी संख्या में प्रकोष्ठ के कार्यकर्ता एवं पदाधिकारी मौजूद रहे।।

Share This Post:-
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *