पांच साल मे योगी सरकार ने प्रदेश मे चौमुखी विकास किया है

प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी ने आज सोमवार को ‘जन चौपाल’ कार्यक्रम के माध्यम से उत्तर प्रदेश के शामली, मुजफ्फरनगर, बागपत, सहारनपुर और गौतम बुद्ध नगर के मतदाताओं के साथ संवाद किया और उनसे जन-जन के विकास के प्रति समर्पित भारतीय जनता पार्टी की डबल इंजन सरकार बनाने की अपील की।

प्रधानमंत्री ने कहा कि आज आज उत्तर प्रदेश चुनाव को लेकर भारतीय जनता पार्टी की यह पहली वर्चुअल रैली है। इतने कम समय में तकनीक के माध्यम से इतने सारे लोगों को जोड़ना, ये भाजपा कार्यकर्ताओं की दिन-रात की मेहनत का परिणाम है। एक जीवंत संगठन का ये सबूत है।

उत्तर प्रदेश की पावन धरा को नमन करते हुए श्री मोदी ने कहा कि पश्चिमी उत्तर प्रदेश की ये वो धरती है जिसने 1857 की क्रांति में देश को एकजुटता का संदेश दिया था। कमल के फूल और रोटी ने हमेशा देश को बांटने वालों को मुंह तोड़ जवाब दिया है। हम एकजुट रहेंगे, तो दुनिया की कोई भी ताकत हमें कभी भी परास्त नहीं कर पाएगी। हमारा हर प्रयास उत्तर प्रदेश के विकास को नई ऊंचाई देगा। मां शाकुंभरी देवी के आशीर्वाद से मैं आज उत्तर प्रदेश के चुनावी अभियान की शुरुआत कर रहा हूं। बागपत, शामली, गौतमबुद्ध नगर, मुजफ्फरनगर और सहारनपुर से हमारे साथ जुड़े प्रत्येक मतदाता का भी मैं अभिनंदन करता हूं।

प्रधानमंत्री ने कहा कि जब मैं पांच साल पहले चुनाव के समय पश्चिमी उत्तर प्रदेश आया था, तो आपसे कहा था कि उत्तर प्रदेश के विकास के लिए हम कोई कोर-कसर बाकी नहीं छोड़ेंगे। इन पांच वर्षों में योगी आदित्यनाथ के नेतृत्व में उत्तर प्रदेश की डबल इंजन की भारतीय जनता पार्टी सरकार ने पूरी ईमानदारी और निष्ठा से आपकी सेवा करने का, उत्तर प्रदेश के विकास का प्रयास किया है।

उत्तर प्रदेश की कानून-व्यवस्था में हुए आमूल-चूल परिवर्तन को रेखांकित करते हुए श्री मोदी ने कहा कि कोई भूल नहीं सकता कि 5 साल पहले यूपी को लेकर क्या चर्चा होती थी? पांच साल पहले दबंग और दंगाई ही कानून थे, उन्हीं का कहा शासन का आदेश था। पांच साल पहले व्यापारी लुटते थे, बेटियां घर से बाहर निकलने में घबराती थी और माफिया, सरकारी संरक्षण में खुलेआम घूमते थे। आज यूपी का किसान हों, कर्मचारी हों, व्यापारी हों या फिर माताएं-बहनें-बेटियां, सभी को सुरक्षा और सम्मान मिल रहा है। जो माफिया और गुंडे खुद को कानून से भी बड़ा मानते थे, यूपी की भाजपा सरकार ने उन्हें कानून का मतलब समझा दिया है। पांच साल पहले गरीब, दलित, वंचित, पिछड़ों के घर-जमीन-दुकान पर अवैध कब्ज़ा का समाचार आये दिन अखबारों की सुर्खियाँ बनती थी। हम उत्तर प्रदेश में बदलाव के लिए खुद को खपा रहे हैं लेकिन वे उत्तर प्रदेश की जनता से यानी आपसे बदला लेने की ठानकर बैठे हैं। इन लोगों ने जिन्हें टिकट दिया है, वह इस बात का एक और सबूत है। बदला लेना ही हमेशा से उनकी सोच रही है। इसलिए मैं देखकर खुश हूं कि उत्तर प्रदेश की जनता इन दंगाई सोच रखने वालों से बहुत सावधान है, सतर्क है। हमारा काम और उनके कारनामें व कारस्तानी देखकर इस बार भी उत्तर प्रदेश की जनता, भारतीय जनता पार्टी को भरपूर आशीर्वाद देने जा रही है। और इसमें भी जो हमारे फर्स्ट टाइम वोटर्स हैं, वो खुलकर भाजपा के साथ हैं।

प्रधानमंत्री ने विपक्ष पर हमला बोलते हुए कहा कि जो अपने देश के अपने टीके पर विश्वास नहीं करते, जो अफवाहों को हवा देते हैं, क्या वो उत्तर प्रदेश के युवाओं के टैलेंट, उनके इनोवेशन का सम्मान कर सकते हैं? जो लोग सत्ता खोने के अंधविश्वास के कारण नोएडा जैसे युवा आकांक्षाओं के क्षेत्र में आने से भी कतराते हैं, क्या वो युवाओं के सपनों का प्रतिनिधित्व कर सकते हैं?

किसानों के कल्याण के लिए केंद्र एवं राज्य की भारतीय जनता पार्टी सरकार द्वारा उठाये गए क़दमों की चर्चा करते हुए श्री मोदी ने कहा कि भारत गरीब कल्याण अन्न योजना के तहत हर एक गरीब परिवार का ध्यान रख रहा है। उत्तर प्रदेश के 15 करोड़ नागरिकों को डबल इंजन सरकार मुफ्त राशन उपलब्ध करा रही है। ये वही उत्तर प्रदेश है जहां 5 साल पहले राशन की दुकानों से गरीबों का राशन चोरी हो जाया करती थी। गरीबों की सरकार की प्राथमिकता क्या है, ये दुनिया में आए 100 साल में सबसे बड़ा संकट से पता लगा है। इतनी बड़ी महामारी आई, उस समय गरीबों के लिए जीने वाली सरकार कैसे काम करती है, ये आज देश अनुभव कर रहा है।

प्रधानमंत्री ने कहा कि हमारा लक्ष्य था कि किसान को मिलने वाली सरकारी मदद में लूट बंद हो, बेईमानी बंद हो और उत्तर प्रदेश के छोटे किसानों के बैंक अकाउंट में सीधी मदद मिले। आज प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि से उत्तर प्रदेश के किसानों को 43 हजार करोड़ रुपए से अधिक सीधे उनके बैंक खातों में मिले हैं। इसका सबसे अधिक लाभ छोटे किसानों को हुआ है। 2017 से पहले की तुलना में दोगुने से भी अधिक खरीद बीते 5 सालों में एमएसपी पर की गई है। हमने गन्ना किसानों की दिक्कतों को समझते हुए उनके बकाए के जल्द से जल्द भुगतान का भी लक्ष्य रखा था। इस लक्ष्य को भी हमने तेसे पूरा किया।

श्री मोदी ने कहा कि सबका साथ, सबका विकास, सबका विश्वास और सबका प्रयास – ये हमारे लिए डबल इंजन सरकार की नीति और निष्ठा का मूल मंत्र है। बीते वर्षों में जो भी योजनाएं भाजपा सरकार ने लागू की हैं, उनका लाभ सभी को बिना किसी भेदभाव के मिला है। यही भावना तो हमारे संविधान के मूल में है। जिन्होंने गरीब की तकलीफ न कभी महसूस की, न कभी देखी, हमेशा जमीन से कटे रहे, वे न तो गरीब को समझ सकते हैं और न ही उनका भला कर सकते हैं। भारतीय जनता पार्टी सरकार ने गरीब कल्याण के लिए किस तरह कार्य किया है उसका उदाहरण गरीबों के पक्के घर हैं, उज्ज्वला योजना है, जन धन – आधार – मोबाइल योजना है, आयुष्मान भारत है, स्वच्छ भारत अभियान है, ग्राम विकास है। तीन तलाक के खिलाफ जो कानून हमारी सरकार ने बनाया, उसका लाभ हमारी लाखों मुस्लिम महिलाओं को हुआ है। बेटे-बेटियों को एक समान मानने वाली हमारी सरकार अब बेटियों की शादी की उम्र को 21 साल करने का प्रयास कर रही है। इससे बेटियों को अपने सपने पूरे करने में और मदद मिलेगी।

यशस्वी प्रधानमंत्री ने कहा कि जो सोता है, उसे सपने आते हैं। जो जागता है, वह संकल्प लेता है। योगी आदित्यनाथ जागने वाले और जगाए रखने वाले नेता हैं। इसलिए वे संकल्प करने वाले नेता हैं। यही फर्क आज उत्तर प्रदेश की जनता आज अच्छे से देख और समझ रही है। 2017 से पहले जो सरकार थी, वो कागजों पर आधी-अधूरी परियोजनाएं बनाने और उनके शिलान्यास में माहिर थी। अस्पताल हो, सड़कें हो, एक्सप्रेस-वे हो, ये लोग सालों-साल परियोजनाओं को खींचते थे ताकि उनकी कमाई होती रहे। वे सिर्फ सपने दिखाते थे जबकि भारतीय जनता पार्टी की डबल इंजन की सरकार लोगों के हर सपने पूरे करती है।

श्री मोदी ने कहा कि शामली, मुज़फ़्फ़रनगर और बागपत शहर में भी कुल मिलाकर 800 घर ही पिछली सरकार ने अपने पूरे कार्यकाल में बनवाए थे। भाजपा की योगी आदित्यनाथ सरकार ने इन तीन शहरों में 33 हजार से ज्यादा गरीबों को घर बनवाकर दिए हैं। सहारनपुर शहर में भी पहले वाली सरकार ने सिर्फ 221 घर गरीबों के लिए बनवाए थे। योगी सरकार ने इन्हीं पांच सालों में 18 हजार से ज्यादा घर बनाकर सहारनपुर के गरीबों को दिए हैं। पहले वाली सरकार ने अपने 5 साल में गौतमबुद्ध नगर में केवल 73 घर बनाए थे। यूपी की डबल इंजन की सरकार ने इन्हीं 5 साल में करीब 23 हजार घर बनाकर शहरी गरीबों को दिए हैं। सोचिए, कहां 73 घर और कहां 23 हजार घर। उत्तर प्रदेश की जनता पहले की सरकार में रहने वालों की बदनीयत को अच्छी तरह जानती है। इन लोगों ने भ्रष्टाचार और रियल एस्टेट माफिया का ऐसा गठबंधन कराया कि NCR के हजारों फ्लैट खरीदारों के जीवन भर की पूंलुट गई। इसका बहुत बड़ा नुकसान हमारे मध्यम वर्ग के लोगों को उठाना पड़ा। एक तरफ भाजपा है, जिसके पास विकास का स्पष्ट विजन है, साफ सुथरा ईमानदार और दमदार नेतृत्व है, वहीं दूसरी तरफ अहंकार से भरे, समाज को तोड़ने वाले, किसी भी कीमत पर सत्ता पाने का सपना देख रहे “नकली समाजवादी” हैं। विजन के नाम पर इनके पास सिर्फ विरोध है, गुस्सा है, आक्रोश है। इन्हें उत्तर प्रदेश की जनता के उत्थान से कोई लेना-देना नहीं है।

Share This Post:-
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *