दिल्ली को हम विश्व की सबसे खूबसूरत राजधानी बनायेंगे : अमित शाह

केंद्रीय गृह मंत्री एवं भारतीय जनता पार्टी के निवर्तमान अध्यक्ष  अमित शाह ने  दिल्ली विधान सभा चुनाव के मद्देनजर शिव विहार पुलिया (मुस्तफाबाद), सोनिया विहार (करावल नगर) और भागीरथी विहार (गोकलपुरी) में आयोजित विशाल जन-सभाओं को संबोधित किया और अरविन्द केजरीवाल सरकार पर करारा प्रहार करते हुए दिल्ली के विकास के लिए भारतीय जनता पार्टी की पूर्ण बहुमत की सरकार बनाने का आह्वान किया। कार्यक्रम में दिल्ली भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष मनोज तिवारी भी उपस्थित थे। उन्होंने भी कार्यक्रम को संबोधित किया। श्री शाह ने कहा कि दिल्ली विधान सभा का यह चुनाव वादा करके मुकर जाने वालों और वादे से भी अधिक काम करने वालों के बीच का चुनाव है। एक ओर केजरीवाल सरकार है जिसने झूठे वादे करते हुए पांच साल तक दिल्ली में शासन किया और दिल्ली प्रदेश को आगे ले जाने के बजाय पीछे ले जाने का काम किया वहीं दूसरी ओर प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी  के नेतृत्व में भारतीय जनता पार्टी है जिसका हर क्षण जन-सेवा और राष्ट्र के उत्थान के प्रति समर्पित है। उन्होंने कहा कि अब अरविन्द केजरीवाल पूरे न हुए अपने झूठे वादे की चर्चा किसी सार्वजनिक कार्यक्रम में नहीं करते। अरविंद केजरीवाल ने 500 स्कूल बनाने का वादा किया था। नए स्कूल बनाना तो छोड़िये, दिल्ली के वर्तमान स्कूलों की भी हालत जर्जर हो चुकी है। दिल्ली के सरकारी स्कूलों का स्तर इतना गिर गया है कि बच्चों का ड्रॉप आउट रेशियो बढ़ गया है, बच्चे फेल हो रहे हैं, 700 स्कूलों में प्रिंसिपल नहीं हैं, 1000 से अधिक स्कूलों में साईंस विंग ही नहीं है, 19 हजार शिक्षकों की कमी है। दिल्ली के शिक्षा मंत्री बजट में घोषणा तो कर देते हैं लेकिन बजट का 30% से अधिक खर्च ही नहीं करते। 70-70 बच्चे एक ही क्लास में पढ़ने को मजबूर हैं, बच्चों का भविष्य केजरीवाल सरकार ने अंधकारमय बना कर रख दिया है।

केजरीवाल सरकार पर हमला जारी रखते हुए केंद्रीय गृह मंत्री ने कहा कि आप पार्टी सरकार ने दिल्ली में 50 नए कॉलेज खोलने का वादा किया था, 15 लाख सीसीटीवी और फ्री वाई-फाई लगवाने का वादा किया था, अस्थायी नौकरियों को परमानेंट करने का वादा किया था, 8 लाख लोगों को नौकरी देने का वादा किया था लेकिन एक भी वादा पूरा नहीं हुआ। केजरीवाल सरकार ने 5000 डीटीसी बसों को सड़क पर उतारने का वादा किया था लेकिन मीडिया के सामने 300 बसें दिखा कर जनता को गुमराह करने का काम किया। केजरीवाल सरकार ने फ्री वाई-फाई देने का वादा किया था लेकिन ये कैसा वाई-फाई है कि बैटरी ख़त्म हो जाती है लेकिन मिलता ही नहीं। जब मैंने ऐसा कहा तो केजरीवाल कहते हैं कि हमने 200 यूनिट तक बिजली फ्री की हुई है, मोबाइल चार्ज करा लो। हालत तो यह है कि 200 यूनिट से कम खपत वालों के पास भी 5000-6000 रुपये के बिल आ रहे हैं।

श्री शाह ने कहा कि केजरीवाल सरकार ने कहा कि यमुना मैया को स्वच्छ कर देंगे। यमुना स्वच्छ करना तो दूर जो जल निगम का स्वच्छ पानी पहले घरों में आता था, आज केजरीवाल सरकार ने दिल्ली की जनता को सबसे दूषित पानी पीने को मजबूर कर दिया। अरविन्द केजरीवाल ने पिछली बार चुनाव से पहले वादा किया था कि सरकारी मकान नहीं लेंगे, गाड़ी नहीं लेंगे जबकि सत्ता में आते ही मकान भी लिया, गाड़ी भी लिया। पानी का बिल थोड़ा माफ किया तो केजरीवाल सरकार ने उसकी जगह गंदा पानी पिलाना शुरू कर दिया। प्रधानमंत्री  नरेन्द्र मोदी  ने आयुष्मान भारत योजना के माध्यम से देश के 50 करोड़ से अधिक गरीबों के पांच लाख रुपये तक का मुफ्त स्वास्थ्य बीमा दिया लेकिन केजरीवाल इसे दिल्ली में लागू होने ही नहीं देते। राजनीति अपनी जगह लेकिन गरीबों का हक क्यों मारते हो केजरीवाल जी? केजरीवाल सरकार कहती है कि उसने मोहल्ला क्लिनिक बनाए। हो सकता है कि उन्होंने 200-300 क्लिनिक खोले भी होंगे लेकिन दिल्ली की जनता ये बताये कि दिल्ली की गरीब जनता का इलाज मोहल्ला क्लिनिक में होना चाहिए या अच्छे से अच्छे अस्पताल में होना चाहिए। दिल्ली में भारतीय जनता पार्टी की सरकार आते ही दिल्ली की जनता को आयुष्मान कार्ड मिलेगा। केजरीवाल सरकार के पांच साल अच्छे नहीं बीते, वादाखिलाफी के बीते हैं, जनता के साथ विश्वासघात के बीते हैं।

केंद्रीय गृह मंत्री ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी  का लक्ष्य है कि देश के हर गरीब के पास अपना घर होना चाहिए लेकिन प्रधानमंत्री आवास योजना को भी केजरीवाल सरकार दिल्ली में लागू नहीं होने देती। आप एक बार दिल्ली में कमल फूल की सरकार बना दीजिये, “जहां झुग्गी, वहीं पक्का मकान” देने का काम भाजपा सरकार करेगी। दिल्ली में 20 सालों तक कांग्रेस और आप पार्टी की सरकार रही लेकिन अनधिकृत कॉलोनियों का दर्द किसी ने नहीं सुना। कांग्रेस और केजरीवाल सरकार, दोनों ने इसे लटकाए रखा। ये प्रधानमंत्री  नरेन्द्र मोदी हैं जिन्होंने 1731 अनधिकृत कॉलोनियों को अधिकृत कर 40 लाख से अधिक लोगों को उनके घर का मालिकाना हक दिया है। केजरीवाल कहते हैं कि ये गलत है लेकिन दिल्ली की जनता को प्रधानमंत्री  नरेन्द्र मोदी पर भरोसा है। आज भी अनधिकृत कॉलोनियों के घरों की रजिस्ट्री शुरू है। इसे कोई नहीं रोक सकता, अरविन्द केजरीवाल भी इसे रोक नहीं सकते। 1984 में हुए सिख नरसंहार का उल्लेख करते हुए श्री शाह ने कहा कि दिल्ली में सिख दंगे हुए लेकिन जब गुनाह करने वाले ही कोतवाल बन जाएँ तो वे कभी पकड़े जायेंगे क्या? कांग्रेस की सरकार में यही हुआ और दंगे के गुनाहगार सजा से बचते रहे। जैसे ही केंद्र में भारतीय जनता पार्टी की  नरेन्द्र मोदी सरकार बनी, हमने जीपी माथुर की अध्यक्षता में सिख दंगों की जांच के लिए एसआईटी का गठन किया जिसका परिणाम यह हुआ कि आज सिख दंगे के गुनाहगार जेल की सलाखों के पीछे हैं। दंगों के सिख पीड़ितों को पांच लाख रुपये की आर्थिक सहायता देने का काम भी भारतीय जनता पार्टी की नरेन्द्र मोदी सरकार ने किया है जबकि 1984 से लेकर 2014 तक इस दिशा में कोई कार्य नहीं हुआ।

केंद्रीय गृह मंत्री ने कहा कि दिल्ली के विकास में सबसे बड़ा रोड़ा खुद केजरीवाल सरकार ही है। केजरीवाल सरकार न तो  दिल्ली की जनता शुद्ध हवा दे पाई, शुद्ध पीने का पानी दे पाई, न घर दे पाई, न शिक्षा व्यवस्था सुधार पाई, हाँ, इन्होंने झूठे वादों का रिकॉर्ड जरूर कायम किया है। दिल्ली की जनता ने 15 साल कांग्रेस को मौक़ा दिया, पांच साल से अधिक केजरीवाल को मौक़ा दिया। अब एक मौक़ा भारतीय जनता पार्टी को दीजिये, हम दिल्ली को विश्व की सबसे खूबसूरत राजधानी बनायेंगे क्योंकि हम जो कहते हैं, कर के दिखाते हैं। प्रधानमंत्री  नरेन्द्र मोदी  ने कहा भी है कि देश बदला है, अब दिल्ली बदलनी है। श्री शाह ने कहा कि प्रधानमंत्री  नरेन्द्र मोदी जी ने आजादी के 70 सालों की समस्याओं का एक-एक करके समाधान किया है। धारा 370 की समाप्ति पर राहुल गाँधी एंड कंपनी और केजरीवाल की पार्टी ने तुरंत आपत्ति जताते हुए कहा था कि इससे कश्मीर पर कंट्रोल नहीं रहेगा, खून की नदियाँ बह जायेगी लेकिन यह मोदी सरकार है। जम्मू-कश्मीर में धारा 370 की समाप्ति के बाद आज तक एक भी गोली नहीं चली और जम्मू-कश्मीर आज सच्चे अर्थों में भारत का अभिन्न अंग बना है। उन्होंने कहा कि 500 साल से राम मंदिर का मुद्दा अटका हुआ था। कांग्रेस ने लगातार इसे लटकाए रखा, इसके वकील नेताओं ने सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई को अटकाने के षड्यंत्र रचे लेकिन केंद्र में मोदी सरकार आने के बाद संवैधानिक दायरे में जल्द से जल्द राम मंदिर के निर्माण का संकल्प लिया गया। सुप्रीम कोर्ट में भी तेज गति से सुनवाई हुई और आज अयोध्या में भगवान् रामलला के जन्म स्थान पर भव्य राम मंदिर के निर्माण का रास्ता साफ हुआ। कुछ ही महीनों में भव्य राम मंदिर बन कर हम सबके सामने होगा।

गृह मंत्री ने कहा कि जेएनयू में एक बड़ा गैंग है जो देश को तोड़ने का ख्वाब देखते हैं। दो साल पहले वहां कुछ छात्रों ने भारत के टुकड़े होने का नारा दिया, श्री केजरीवाल और राहुल एंड कम्पनी देशद्रोही नारे लगाने वालों के समर्थन में जेएनयू जा पहुँचे और कहने लगे कि ये उनको अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता का अधिकार है। मोदी सरकार ने तुरंत इन देशद्रोही नारे लगाने वालों को जेल की सलाखों का अंदर भेज दिया लेकिन केजरीवाल ऐसे लोगों को बचाने के लिए केस चलाने का परमिशन ही नहीं देते। ये मोदी सरकार है, हिंदुस्तान की धरती पर देशविरोधी नारे लगाने वालों की असली जगह जेल की सलाखों के पीछे ही होगी। कांग्रेस और केजरीवाल की पार्टी को हमें जितने भी अपशब्द कहने हैं, कहें लेकिन भारत मां के टुकड़े करने की बात की तो जेल में डाला जाएगा। नागरिकता संशोधन कानून की चर्चा करते हुए श्री शाह ने कहा कि प्रधानमंत्री  नरेन्द्र मोदी  ने पाकिस्तान, बांग्लादेश और अफगानिस्तान से आये हिंदू, सिख, बौद्ध, जैन, ईसाई और पारसी शरणार्थियों को भारत की नागरिकता देने का मानवता का बड़ा काम किया है। अभी सुनने में आया कि केजरीवाल  एक इंटरव्यू में कह रहे थे कि ये शरणार्थी पाकिस्तानी हैं और इसकी चिंता भाजपा कर रही है। उन्होंने कहा कि कांग्रेस की सत्ता लोलुपता के कारण धर्म के आधार पर देश का बंटवारा हुआ और बड़ी संख्या में लोगों को पलायन करना पड़ा। उस समय भी बड़ी संख्या में शरणार्थी दिल्ली आकर बसे थे। प्रधानमंत्री  नरेन्द्र मोदी ने जब इन प्रताड़ित अल्पसंख्यक शरणार्थियों को नागरिकता दी तो कांग्रेस और केजरीवाल सरकार ने मुसलमानों एवं अल्पसंख्यकों को भड़काना शुरू किया। इनके द्वारा देश में CAA का विरोध करने के बहाने दंगों की साजिश रची गई। जो दंगे कराते हैं, वे दिल्ली को कभी सुरक्षित नहीं कर सकते। आज भी केजरीवाल सरकार-कांग्रेस पार्टी निर्लज्ज होकर कहती है कि वे शाहीन बाग़ के साथ हैं। ये लोग देश में दंगे करवाने वाले लोग हैं। दंगे कराने वालों के हाथ में दिल्ली की बागडोर सौंपी नहीं जा सकती। दिल्ली को यदि सुरक्षित प्रदेश बनाना है तो प्रधानमंत्री  नरेन्द्र मोदी  के हाथों को मजबूत बनाना होगा।

केंद्रीय गृह मंत्री ने कहा कि प्रधानमंत्री  नरेन्द्र मोदी  के नेतृत्व में भारत मजबूत, सुरक्षित और निर्णायक राष्ट्र के रूप में प्रतिष्ठित हुआ है। उन्होंने कहा कि हमने पाकिस्तान में घुस कर आतंकियों पर सर्जिकल स्ट्राइक और एयर स्ट्राइक की लेकिन कांग्रेस और केजरीवाल जी इसका सबूत मांगते हैं। केजरीवाल एंड कंपनी और राहुल गाँधी एंड कंपनी जो बोलती है, तुरंत ही इमरान खान उसे दुहराते हैं चाहे वह सर्जिकल स्ट्राइक हो, एयर स्ट्राइक हो, धारा 370 की बात हो या फिर CAA। मुझे तो समझ में ही नहीं आता कि राहुल गाँधी, अरविन्द केजरीवाल और इमरान खान के बीच रिश्ता क्या है? उन्होंने जोर देते हुए कहा कि जो वोट बैंक के लालच में देश की सुरक्षा, देश के सम्मान और जवानों की सुरक्षा के साथ खिलवाड़ करते हैं उन्हें लोकतंत्र में वोट मांगने का अधिकार कतई नहीं है। श्री शाह ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी  ने देश के 60 करोड़ गरीब लोगों के जीवन-स्तर में सुधार लाने का बीड़ा उठाया है और इस दिशा में अच्छी सफलता भी मिली है। प्रधानमंत्री  नरेन्द्र मोदी  ने 2022 तक एक ऐसे भारत का सपना देखा है जहाँ हर गरीब के पास अपना घर हो और घर में रसोई गैस, बिजली, पानी और शौचालय हो। अब प्रधानमंत्री  नरेन्द्र मोदी  ने 2024 तक देश के हर घर में शुद्ध पीने का पानी पहुंचाने का लक्ष्य रखा है। केजरीवाल कहते हैं कि हम दिल्ली के हर घर में पीने का पानी पहुंचा देंगे। आप क्या साफ पानी दोगे केजरीवाल जी, मोदी जी पहले ही पूरे देश को पानी देने का वादा कर चुके हैं, क्या दिल्ली देश में नहीं हैं? यदि केजरीवाल जी को दिल्ली के घरों में शुद्ध पीने का पानी पहुंचाना था तो पिछले पांच साल में उन्होंने इस दिशा में कोई काम क्यों नहीं किया? उन्होंने दिल्ली की जनता से 8 फरवरी 2020 को मतदान के जरिये झूठे वादे करने वाली सरकार को बदल देने की अपील की।

Share This Post:-
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *