श्री धर्मेंद्र प्रधान ने एलपीजी वितरण करने वाले वाले लड़कों की ईमानदारी और कड़ी मेहनत को सराहा, उन्हें अग्रिम पंक्ति का योद्धा बताया

नई दिल्ली।प्रधानमंत्री गरीब कल्याण योजना के तहत इस महीने प्रधानमंत्री उज्जवला योजन के लाभार्थियों को अब तक 1.51 करोड़ से अधिक एलपीजी सिलेंडर वितरित किए गए हैं। पीएमजीकेवाई के तहत, केंद्र सरकार द्वारा गरीबों के कल्याण के लिए कई राहत उपायों की घोषणा की गई है,और इस योजना का एक महत्वपूर्ण पहलू अप्रैल से जून 2020 की अवधि में प्रधानमंत्री उज्ज्वला योजना (पीएमयूवाई) के 8 करोड़ से अधिक लाभार्थियों को मुफ्त में 3 एलपीजी सिलेंडर (14.2 किलोग्राम) प्रदान किया जाना है। योजना के निर्बाध कार्यान्वयन के लिये, तेल विपणन कंपनियां 14.2 किलोग्राम रिफिल या एक 5 किलोग्राम की रिफिल के आरएसपी के बराबर एडवांस हस्तांतरित कर रही हैं। यह पीएमयूवाई ग्राहक के लिंक किए गए बैंक खाते के पैकेज की प्रकृति पर निर्भर करता है। ग्राहक इस एडवांस राशि को एलपीजी भराने के लिए इस्तेमाल कर सकते हैं। तेल विपणन कंपनियां (ओएमसी) प्रतिदिन 50 से 60 लाख सिलेंडर वितरित कर रही हैं, जिसमें पीएमयूवाई लाभार्थियों को मिलने वाले लगभग 18 लाख मुफ्त सिलेंडर शामिल हैं।
 तेल एवं प्राकृतिक गैस और इस्पात मंत्री धर्मेंद्र प्रधान ने एलपीजी सिलेंडर का वितरण करने वाले 800 से अधिक लड़कों के साथ एक वे बिनार यानी इंटरनेट के जरिये चलने वाले सेमिनार में हिस्सा लिया। इसमें तेल एवं प्राकृतिक गैस सचिव, तेल एवं प्राकृतिक गैस मंत्रालय और तेल विपणन कंपनियों के अधिकारियों ने हिस्सा लिया। कोविड-19 महामारी के कारण उपजे अभूतपूर्व संकट के समय में एलपीजी वितरण करने वाले लड़कों को अग्रिम पंक्ति के सैनिक और कोरोना योद्धा बताते हुए श्री प्रधान ने कहा कि पूरा देश उनके योगदान को स्वीकार करता है। उनकी ईमानदारी, कड़ी मेहनत और कर्तव्य के प्रति समर्पण की सराहना करते हुए उन्होंने कहा कि ऐसे समय में, वे रोजाना 60 लाख सिलेंडर तक वितरित कर रहे हैं, यहां तक कि कई बार वे अपने जीवन को जोखिम में डाल रहे हैं। श्री प्रधान ने उन्हें कहा कि वे अपना काम करते समय सावधानी बरतें। केंद्रीय मंत्री ने कहा कि इस अवसर पर आगे आकर उन्होंने समाज में विशेष सम्मान प्राप्त किया है और वे गरीबों की दुआएं हासिल कर रहे हैं।
 
कई एलपीजी डिलीवरी करने वालों ने इन कठिन समय के अपने अनुभव साझा किए हैं। उन्होंने कहा कि कंपनियों ने उन्हें सुरक्षा किट दी है, जिसमें साबुन, सैनिटाइजर, मास्क और दस्ताने शामिल हैं। वे डिलीवरी से पहले सिलेंडर को सैनिटाइज करते हैं और सिलेंडर वितरित करते समय सामाजिक दूरी को भी बनाए रखते हैं। उनमें से कई ने कहा कि वे ग्राहकों को सामाजिक दूरी के बारे में जागरुक कर रहे हैं, उनके फोन में आरोग्यसेतु ऐप को इंस्टॉल करने और डिजिटल माध्यम से भुगतान करने का लाभ बता रहे हैं। उनमें से अधिकांश ने बीमा कराने और अनुग्रह राशि का भी प्रावधान करने के लिए सरकार और तेल विपणन कंपनियों को धन्यवाद दिया। डिलीवरी करने वाले कुछ लड़कों ने यह भी कहा कि उन्होंने पीएम-केयर्स फंड में योगदान भी दिया है और अपने कर्तव्यों का निर्वहन करते समय गरीबों और बुजुर्गों की मदद कर रहे हैं।

Share This Post:-
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *