20 से 22 मार्च  तक आस्ट्रेलिया में ‘ अंतर्राष्ट्रीय गीता महोत्सव’आयोजित किया जाएगा : मनोहर लाल

हरियाणा के मुख्यमंत्री  मनोहर लाल ने कहा कि देश से बाहर इस बार ‘अंतर्राष्ट्रीय गीता महोत्सव’ का आयोजन 20 मार्च से 22 मार्च तक आस्ट्रेलिया में किया जाएगा। ‘अंतर्राष्ट्रीय गीता महोत्सव,2019’ के संदर्भ में नई दिल्ली में लाल किला मैदान में आयोजित ‘गीता प्रेरणा महोत्सव,2019’में विशिष्ट अतिथि के रूप में संबोधित करते हुए हरियाणा के मुख्यमंत्री ने कहा कि  ‘कुरुक्षेत्र’ को ‘दिव्य व भव्य  कुरुक्षेत्र’ के रूप में अंतराष्ट्रीय स्तर पर विकसित किए जाने की दिशा में कार्य किया जा रहा है। धर्मक्षेत्र ‘कुरुक्षेत्र’ के 48 कोस के  प्राचीन क्षेत्र में स्थित महाभारत कालीन तीर्थ स्थलों को क्रमबद्ध रूप से विकसित किया जा रहा है। प्राचीन सरस्वती नदी के उद्गम स्थल व प्रवाह मार्ग पर स्थित प्राचीन धार्मिक स्थलों का भी जीर्णोद्धार करने की दिशा में कार्य किया जा रहा है। तेल एवं प्राकृतिक गैस निगम के सहयोग से प्राचीन सरस्वती नदी के भूमिगत जल स्त्रोत से जल निकाल कर भूतल पर सरस्वती नदी के प्रवाह मार्ग में पुन जल प्रवाह किए जाने की दिशा में भी कार्य किया जा रहा है। हरियाणा के मुख्यमंत्री ने कहा कि कुरुक्षेत्र में जीओ गीता द्वारा एक अनुसंधान केन्द्र स्थापित किया जा रहा है। कुरुक्षेत्र में अनेक धार्मिक स्थल व धार्मिक केंद्र स्थापित हैं। विभिन्न धार्मिक संस्थाओं द्वारा कुरुक्षेत्र में धार्मिक केंद्र स्थापित किए जा रहे हैं। हरियाणा के मुख्यमंत्री ने कहा कि कुरुक्षेत्र में पांच एकड क्षेत्र में एक ‘भारत माता मंदिर’ बनाए भी बनाया  जाए। कुरुक्षेत्र में  सूर्यग्रहण के अवसर पर  व अन्य धार्मिक अवसरों श्रृद्धालुओं को बढती जा रही संख्या के दृष्टिगत वहां सुविधाओं का भी विस्तार किया जा रहा है।
   हरियाणा के मुख्यमंत्री ने कहा कि फरवरी, 2019 में मारिशस  व अगस्त ,2019 में यूनाइटेड किंगडम में ‘अंतर्राष्ट्रीय गीता महोत्सव’ आयोजित किए गए। इसी क्रम में इस बार  वर्ष 2020 में 20 मार्च से 22 मार्च  तक आस्ट्रेलिया में ‘ अंतर्राष्ट्रीय गीता महोत्सव’ आयोजित किया जाएगा। हरियाणा के राज्यपाल  सत्यदेव नारायण आर्य ने ‘गीता प्रेरणा महोत्सव, 2019’ में अपना  संदेश प्रषित किया। लाल किला मैदान में आयोजित ‘गीता प्रेरणा महोत्सव,2019’ का शुभारंभ हरियाणा के मुख्यमंत्री  मनोहर लाल  व गीता मनीषी  स्वामी ज्ञानानंद महाराज ने दीप प्रज्ज्वलित कर किया। लोकसभा अध्यक्ष ओम बिडला व  ज्ञानानंद  महाराज ने  गीता जी का विमोचन किया। लोकसभा अध्यक्ष  ओम बिडला ने अपने संबोधन में गीता के प्रसार की दिशा में स्वामी ज्ञानानंद  महाराज द्वारा किए जा रहे कार्यों की प्रशंसा करते हुए कहा कि गीता विश्व धरोहर है और गीता दर्शन सदैव प्रासंगिक है। गीता  ज्ञान सामान्य मानव जीवन का मार्ग प्रशस्त करती है। हमें अपने जीवन में गीता को  अपनाना चाहिए।
केंद्रीय महिला एवं बाल विकास मंत्री श्रीमती स्मृति जुबिन इरानी ने अपने संबोधन में कहा कि साधु-संतों व विद्वानों के संबोधन से सदैव श्रेष्ठ प्रेरणा मिलती है। केंद्रीय मंत्री ने अपने संबोधन में गर्भवती माताओं व बच्चों में कुपोषण की समस्या को नियंत्रित करने की दिशा में सेवा-सहयोग किए जाने का आह्वान किया। केंद्रीय सूक्ष्म, लघु और मध्यम उद्यम राज्य मंत्री प्रताप चंद्र सारंगी ने कहा कि पवित्र ‘गीता’ का दर्शन संपूर्ण मानव जाति के कल्याण का स्त्रोत है। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ, योगगुरु बाबा रामदेव व  मोरारी बापू ने  ‘गीता प्रेरणा महोत्सव, 2019’ में अपने संदेश प्रषित किए। लाल किला मैदान में आयोजित ‘गीता प्रेरणा महोत्सव,2019’ के मुख्यातिथि व राष्ट्रीय स्वयंसेवक के सरसंघचालक श्री मोहन भागवत ने अपने संबोधन में कहा कि पवित्र ‘गीता’ हमारी विरासत है और विश्व में प्रसारित किए जाने की दिशा में प्रारंभ किए गए इस उपक्रम को विस्तारित करना है। गीता मनीषी स्वामी  ज्ञानानंद  महाराज ने कहा कि पवित्र ‘गीता’ को ‘मानवता के लिए दिव्य प्रेरणा’ व ‘प्रत्येक क्षेत्र की व्यवहारिक पहचान’ बताते हुए कहा कि गीता शिक्षा शास्त्र है, न्याय शास्त्र है, चिकित्सा शास्त्र है, मनोबल बढाने की प्रेरणा विशेषकर युवाओं के लिए तो संजीवनी है। ज्ञानानंद  महाराज ने पवित्र ‘गीता’ को ‘संस्कृति का आभूषण’ की संज्ञा देते हुए विप्रजनों से अपने क्षेत्रों में पवित्र ‘गीता’ को  व्यावहारिक प्रेरणा बनाने का आह्वान किया।  उनहोंने पवित्र ‘गीता’ को राजनीति क्षेत्र के लिए एक प्रेरणा स्त्रोत बताया।

साध्वी ॠतंभरा  ने अपने संबोधन में पवित्र ‘गीता’ के ज्ञान के प्रसार की दिशा में अंतर्राष्ट्रीय स्तर किए जा रहे कार्यो के लिए हरियाणा के मुख्यमंत्री  मनोहर लाल व गीता मनीषी  ज्ञानानंद  महाराज की प्रशंसा की। स्वामि परमात्मानंद  महाराज ने पवित्र ‘गीता’ को भारत का नहीं अपितु संपूर्ण विश्व का ग्रंथ बताते हुए कहा कि विश्व में  हमारे धर्म को आस्था व श्रद्धा के रूप में देखा जाता है परंतु हमारा आधार ज्ञान है। हम विज्ञान से नहीं केवल ज्ञान से ही विश्व गुरू बन सकते हैं। स्वामि रामेश्वरानंद  महाराज ने अपने संबोधन में कहा कि पवित्र गीता का चिंतन हमारी संस्कृति है और सभी तक  पवित्र ‘गीता’ का प्रकाश पहुंचाना ही हमारा उद्देश्य है। प्रमुख ईमाम उमर अहमद इलियासी ने कहा कि  ‘गीता’ हमारा भारत है, धर्म है, हमारी मर्यादा है। दूसरों को अवसर देना हमारे धर्म है। हम भारतीय हैं और हमारा पैगाम है,”धर्म जोडता है, धर्म तोडता नहीं”। हमें भारत को मजबूत करना है। पटियाला(पंजाब) के बाबा भूपेंद्र सिंह ने कहा कि हमने गीता को जीवन में ग्रहण करते हुए उसे जीना  है। हमारी प्राथमिकता  अध्यातम होनी  चाहिए। स्वामि राधवानंद नंद ने पवित्र ‘गीता’ को वास्तविक जीवन का मार्ग बताया। जैन मुनि आचार्य लोकेश ने कहा गीता पूरे विश्व की धरोहर है।जैन मुनि आचार्य विवेक ने कहा कि गीता हमें सभी कार्यों को योग के रूप में करने मार्ग दिखलाती है। राज्यसभा सांसद  जनार्दन द्विवेदी, भाजपा नेता शाहनवाज हुसैन व भाजपा के दिल्ली के प्रदेशाध्यक्ष  अध्यक्ष  मनोज तिवारी ने भी अपना संबोधन किया।  ‘गीता प्रेरणा महोत्सव,2019’ में नेत्रहीन छात्राओं ने गीता के 18 अध्यायों से संकलित 18 श्लोकों का उच्चारण किया। मुस्लिम छात्रों ने गीता के 18 अध्यायों से संकलित 18 श्लोकों का उर्दू अनुवाद प्रस्तुत किया। ‘गीता प्रेरणा महोत्सव,2019’ में विभिन्न देशों से काफी संख्या मेंआए भारतीयों ने भी भाग लिया।

      ‘गीता प्रेरणा महोत्सव,2019’ मे केंद्रीय जल शक्ति राज्य मंत्री  रत्नलालकटारिया,हरियाणा विधानसभा अध्यक्ष  ज्ञानचंद गुप्ता,सांसद  अरविंद शर्मा, सांसद  संजय भाटिया,सांसद श्रीमति सुनीता दुग्गल, हरियाणा के खेल एवं युवा मामले राज्य मंत्री संदीप सिंह ,विधायक सुभाष सुधा व विधायक  नरेन्द्र गुप्ता भी शोभायमान रहे। ‘गीता प्रेरणा महोत्सव,2019’ में जीओ गीता के विभिन्न पदाधिकारी भी मौजूद रहे।
Share This Post:-
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *