संविधान किसी भी सम्प्रभु सम्पन्न राष्ट्र के लिए एक मार्ग निर्देशिका है

दिल्ली।आज डॉ भीमराव अंबेडकर के महा परिनिर्वाण दिवसर के अवसर पर भारतीय राष्ट्रीय दलित प्रेरणा स्थल नोएडा में विभिन्न प्रतियोगिताओं का आयोजन किया गया। जिसमें सावित्रीबाई फुले बालिका इंटर कॉलेज की अनेकों छात्राओं ने शिक्षिका श्रीमती नीतू सिंह के साथ जाकर प्रतिभाग किया और विभिन्न प्रकार के पुरस्कार प्राप्त किए ।
ज्ञात हो संविधान केवल एक पुस्तिका या ग्रन्थ नहीं है। संविधान किसी भी सम्प्रभु सम्पन्न राष्ट्र के लिए एक मार्ग निर्देशिका होती है, जो पूरे देश को व्यवस्थित मूल्यों के साथ आगे बढ़ने की प्रेरणा प्रदान करती है। अनन्त काल तक यह संविधान भारत को आगे बढ़ा सके, इसके लिए बाबा साहब डाॅ0 आंबेडकर ने स्वतंत्रता, समानता और बन्धुत्व को संविधान का आदर्श बनाया।

Share This Post:-
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *