अकादमी अपनी भाषा, साहित्य व लोक उत्सवों के लिये तेजी से कार्य करे :मनीष सिसोदिया

किशोर नैथानी

गढवाली, कुमाउंनी एवं जौनसारी भाषा अकादमी दिल्ली सरकार की नवगठित गवर्निंग बांडी की पहली बैठक दिल्ली के उप-मुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया  की अध्यक्षता में दिल्ली सचिवालय में संपन्न हुई।

जिसमें अकादमी के उपाध्यक्ष हीरा सिंह राणा व संचालन समिति के सदस्य वासवानंद ढौंडियाल, पवन कुमार मैठाणी, बृजमोहन उप्रेती, प्रीति कोटनाला सालियन, पावित्री बडोला, चंद्र कला नेगी, सूरत सिंह रावत, पृथ्वी सिंह , दिवाकर उनियाल, .पदम सिंह पंंवार, दिनेश विष्ट, पी.एन.शर्मा, जय सिंह राणा, राजेश्वर प्रसाद शर्मा ,अकादमी के सचिव जीतराम भट्ट , दिल्ली सरकार के वित्त एवम संस्कृति एवं भाषा विभाग के अधिकारी उपस्थित रहे। इस मौके पर मीटिंग में क ईनिणर्य लिए गये। अकादमी का लोगो अप्रूव किया गया। अकादमी अति शीघ्र दिल्ली के विभिन्न क्षेत्रों में 25 गढवाली, कुमाउँनी एवम् जौनसारी भाषा के शिषण केंद्र खोलेगी।

 

गणतंत्र दिवस पर गढवाली, कुमाउंनी एवम जौनसारी भाषा का कवि सम्मेलन आयोजित करेगी। 3. अति शीघ्र दिल्ली के कनाटप्लेस में दो दिवसीय उत्तराखंडी लोक उत्सव का आयोजन किया जायेगा। 4. अकादमी की  गढवाली, कुमांउनी,  जौनसारी भाषा के साहित्य एवम साहित्यकारों  को प्रोत्साहन देने के उद्देश्य से  विभिन्न विधाओं में पुरस्कार देगी, 5. उत्तेरणी/मकरैणी के आयोजन को और प्रोत्साहित किया जायेगा। जब तक अकादमी के स्थायी कार्यालय की व्यवस्था नहीं हो जाती तब तक अकादमी झंडेवालान स्थित संस्कृत अकादमी के कार्यालय से कार्य करेगी। अकादमी के लिए दो करोड़ के लगभग बजट का प्रावधान रखा गया। अकादमी ने आज से ही काम करना शुरू कर दिया है।

 

दिल्ली के उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने मीटिंग में विश्वास दिलाया की दिल्ली सरकार गढवाली,कुमांउंनी व जौनसारी अकादमी को लेकर पूणतः गंभीर है। सरकार चाहती है कि अकादमी अपनी भाषा, साहित्य व लोक उत्सवों के संरक्षण व संवर्धन के लिये तेजी से कार्य करे। जिसके लिए बजट की कमी आड़े नहीं आने दी जायेगी।

Share This Post:-
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *