परिवार समृद्घि योजना से व्यक्ति, परिवार, प्रदेश व देश समृद्घ होगा : मनोहर लाल

चण्डीगढ़, हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने गणतंत्र दिवस के अवसर पर देश के पहले व करनाल जिला के गांव सिरसी को लाल डोरा से मुक्त करके ग्रामीणों को उनकी संपत्ति की ‘टाईटल डीड’ वितरित कर इतिहास रचा और गाँव के सामुदायिक विकास के लिए एक करोड़ से अधिक राशि देने की घोषणा की। उन्होंने कहा कि फिलहाल इस योजना में प्रदेश के हर जिले से 5-5 गांव का सर्वे कर उन्हें लाल डोरा से मुक्त किया जाएगा और करनाल, जींद व सोनीपत के शहरी क्षेत्र की भी ड्रोन से मैपिंग करवाई जाएगी। मुख्यमंत्री ने इस अवसर पर ‘मुख्यमंत्री परिवार समृद्घि योजना’ की लॉंचिंग की और ग्रामीणों को ‘परिवार पहचान पत्र’ भी वितरित किए। प्रदेश के उप-मुख्यमंत्री दुष्यंत चौटाला भी इस मौके पर मौजूद थे। उपस्थित जनसमूह को सम्बोधित करते हुए मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने बताया कि हरियाणा सरकार जमीन से जुड़े विभिन्न मसलों का निराकरण करने के उदेश्य से ग्रामीणों के लिए अनेक योजनाओं पर काम कर रही है। उन्होंने कहा कि आगामी 5 वर्षों में खेतों में जाने वाले तीन व चार करम के सभी रास्तों को पक्का करवाया जाएगा और इस दिशा में हर साल 20 प्रतिशत रास्ते पक्के किए जाएंगे। इसी प्रकार, सांझी खेवट में तकसीम के झगड़ों को खत्म करने के लिए सरकार ने खाका तैयार कर लिया है। इसे अनिवार्य बनाकर अगले छ: महीनो में खेवट के लगभग 40 हजार लंबित मामलों को निपटाया जाएगा, ताकि ग्रामीण सुखी और समृद्घ हों। आने वाले समय में जमीनों के समस्त रिकॉर्ड का राजस्व विभाग की वैब-हैलरिस में डिजिटाईलिजेशन किया जाएगा। राजस्व में पिछले 30-40 सालों से चले आ रहे रिमांड की पावर को भी खत्म कर दिया गया है। उन्होंने बताया कि प्रदेश में अब पढ़ी-लिखी पंचायते हैं, भ्रष्टाचार को समाप्त करने के लिए ई-पंचायतें बनाई जाएगी और सभी का ऑडिट होगा।

मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने कहा कि ‘परिवार समृद्घि योजना’ में आगामी 31 मार्च तक 20 लाख परिवारों को लाभ देने का लक्ष्य निर्धारित किया गया है। परिवार समृद्घि योजना से व्यक्ति, परिवार, प्रदेश व देश समृद्घ होगा और इसके दूरगामी परिणाम मिलेंगे। सरकार की ओर से ग्रामीणों के लिए जो योजनाएं दी जा रही हैं, उन सबका लाभ इसी योजना से मिलेगा। इसी प्रकार, जिन लोगों के परिवार पहचान पत्र नहीं बने हैं, वे सम्बंधित सीएससी या अटल सेवा केन्द्र में जाकर बनवा लें। उन्होंने ग्रामीणों को सभी योजनाओं की विस्तार से जानकारी देते हुए बताया कि परिवार पहचान पत्र में नवजात के साथ-साथ विवाहित महिला का नाम जुड़ सकेगा और परिवार के किसी सदस्य की मृत्यु हो जाने पर उसका नाम हट भी सकेगा। जिस परिवार की सालाना आय 1 लाख 80 हजार रूपये से कम है, उन्हें बीपीएल की तरह सभी सरकारी योजनाओं का लाभ मिलेगा। साठ साल की आयु पूरी करने वाले व्यक्ति की सामाजिक पैंशन बन जाएगी और परिवार का भविष्य सुरक्षित होगा। एक तरह से यह परिवार की आधुनिक व टैक्नॉलोजी युक्त वंशावली तैयार हो जाएगी। सरकार ने इस योजना को पूरा करने के लिए अलग से नागरिक संसाधन सूचना विभाग का गठन भी कर दिया है।

उप मुख्यमंत्री हरियाणा दुष्यंत चौटाला ने इस अवसर पर ग्रामीणों को 71वें गणतंत्र दिवस की शुभकामनाएं दी और कहा कि अनंत शहीदों के बलिदानों से भारत को आजादी मिली और आज के ही दिन देश गणतंत्र बना और डॉ. भीमराव अम्बेडकऱ द्वारा रचित संविधान लागू हुआ, जो सर्वश्रेष्ठ संविधान है। इसी के चलते दुनिया के सबसे बड़े व सफल देश भारत में गणतंत्रात्मक प्रणाली स्थापित है। उन्होंने सिरसी गांव के लोगों को लाल डोरा मुक्त होने पर उन्हें बधाई दी। उन्होंने कहा कि सिरसी प्रदेश का ही नहीं देश का पहला ऐसा गांव हैं, जिसमें अंग्रेजो के जमाने से पहले की चली आ रही प्रथा का समाप्त कर ग्रामीणों को उनकी टाईटल-डीड दी गई है और इस सुविधा से ग्रामीण आंचल का एक मॉडल बन गया है।

उन्होंने कहा कि टाईटल-डीड हासिल होने से ग्रामीण अपनी प्रॉप्र्टी की खरीद फरोख्त कर सकेंगे और उस पर ऋण लेकर अपने परिवार व बच्चों के भविष्य को उज्जवल बना सकेंगे। अगले 2-3 महीने में सिरसी की तरह प्रदेश की 110 ग्राम पंचायतो का डिजिटाईलिजेशन किया जाएगा। उन्होंने कहा कि आज गणतंत्र दिवस पर एक निर्णय लिया गया है कि महीने के पहले मंगलवार को राजस्व विभाग के एसडीएम से लेकर कानूनगो-पटवारी तक के अधिकारी व कर्मचारी गांव के लोगों की जमीन से सम्बंधित समस्याओं का हल करेंगे। सरकार की मंशा है कि गांवो को भी शहरों की तरह सुविधाजनक बनाया जाए।

कार्यक्रम में उपस्थित पंचायत एवं विकास विभाग के प्रधान सचिव सुधीर राजपाल ने बताया कि गांवों को लाल डोरा से मुक्त करने के लिए मुख्यमंत्री का सपना था, जो आज सिरसी में साकार हो गया है। नई तकनीक से ग्रामीणों के मकान, घर व प्लाटों की मैपिंग कर उसका डिजीटल नक्शा तैयार किया गया है। खास बात यह है कि इसमें एक-एक इंच को भी नापा गया है और इस कार्रवाई से सिरसी के सभी ग्रामीण खुश है। अब इस मॉडल को पूरे प्रदेश में लेकर जाएंगे। उन्होंने बताया कि ग्राम पंचायतो में ओर अधिक सुधार के लिए सरकार नए-नए कार्य कर रही है। करनाल जिला के नीलोखेड़ी खण्ड में सभी सैप्टिक टैंक के पानी को ट्रीट करने के लिए एक सीवरेज ट्रीटमेंट प्लांट तैयार किया जाएगा, जिस पर अगले एक महीने में काम शुरू होगा।

मुख्यमंत्री के अतिरिक्त प्रधान सचिव वी. उमाशंकर ने मुख्यमंत्री परिवार समृद्धि योजना के बारे में कहा कि यह मुख्यमंत्री का एक ऐतिहासिक निर्णय है। इस निर्णय के तहत ऐसे जरूरतमंद व्यक्ति को योजना का लाभ दिया जाता है, जिसकी वार्षिक आय 1 लाख 80 हजार रूपये और 5 एकड़ से कम जमीन हो। इस योजना के तहत पात्र व्यक्ति को 6 हजार रूपये वार्षिक राशि दी जाएगी। उन्होंने कहा कि इस योजना की राशि में से प्रधानमंत्री जीवन ज्योति योजना, प्रधानमंत्री सुरक्षा बीमा योजना, मानधन योजना की किस्तों को भरकर शेष राशि पात्र व्यक्ति के खाते में दी जाएगी। सरकार ने ऐसा इसलिए किया कि सरकार की इन योजनाओं का लाभ लेने के लिए लोग नाम मात्र की किस्तों को भी भूल जाते है और मौके पर व्यक्ति इन योजनाओं का लाभ नहीं ले सकते। कार्यक्रम में नीलोखेड़ी के विधायक धर्मपाल गोंदर, मुख्यमंत्री के राजनीतिक सचिव कृष्ण कुमार बेदी, वित विभाग की सचिव सोफिया दहिया, उपायुक्त निशांत कुमार यादव, पुलिस अधीक्षक एस.एस. भौरिया, एसडीएम नरेन्द्र पाल मलिक, नगराधीश  डा0पूजा भारती, जिला खजाना अधिकारी रामनिवास खरब, पूर्व विधायक बख्शीश सिंह, भाजपा नेता योगेन्द्र राणा, राजबीर, जयपाल शर्मा, यशपाल ठाकुर, प्रवीन नरवाल तथा जेजेपी नेता उमेद कश्यप, बृज शर्मा व प्रेम शाहपुर उपस्थित रहे।

   मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने ‘टाईटल-डीड’ वितरण कार्यक्रम में गांव की सरपंच आसना की मांग पर करीब 1 करोड़ 28 लाख रूपये के विकास कार्यो को मंजूरी दी। इनमें करीब 30 लाख 40 हजार रूपये की लागत से सामुदायिक केन्द्र का निर्माण, शिव मंदिर के पास पार्क की चार दीवारी बनाने के लिए 6 लाख रूपये, गांव में व्यायामशाला बनवाने के लिए 48 लाख 75 हजार रूपये, ब्राह्मण चौपाल के लिए 5 लाख रूपये, कैथल रोड़ से सुरेन्द्र पुत्र प्रेम सिंह के खेत तक ईंटों द्वारा रास्ते का निर्माण के लिए 8 लाख 87 हजार, दादुपुर रोड़ से पासा राम के घर तक रास्ते के निर्माण के लिए 15 लाख 50 हजार रूपये, कैथल रोड़ से बृजपाल कश्यप के घर तक रास्ते के निर्माण के लिए 13 लाख 50 हजार रूपये देने की घोषणा की। मुख्यमंत्री ने सिरसी गांव के 20 व्यक्तियों को ‘परिवार पहचान पत्र’ के कार्ड वितरित किये जिनमें जोगिन्द्र सिंह, तेजपाल, नरेश, रोशन, प्रमोद, रामकुमार, कमलेश, दयानंद आर्य, हवा सिंह, जनार्धन, कर्मबीर, बलवान, सेठपाल, राजकुमार नारायण, पाला राम, संजय कुमार, रामपाल, ओमप्रकाश व महेन्द्र शामिल है।

मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने कहा कि आज बहुत खुशी का दिन है कि राजस्व विभाग व पंचायत विभाग के अधिकारियों ने देश के ऐसे ऐतिहासिक कार्य को मात्र दो माह में पूरा कर दिया है, जो कि बहुत ही मुश्किल था, इसके लिए उन्होंने जिले के उपायुक्त निशांत कुमार यादव, अतिरिक्त उपायुक्त अनीश यादव, पंचायती राज के अधीक्षण अभियंता रामफल, डीआरओ श्याम लाल, डीडीपीओ राजबीर खुडिंया, तहसीलदार राजबख्श, बीडीपीओ अशोक छिंकारा, सुमित चौधरी, कानूनगों श्रवण कुमार, पटवारी रोहित को बधाई दी। इतना ही नहीं, मुख्यमंत्री ने खुश होकर इस पूरी टीम को एक लाख रूपये का नकद ईनाम दिया और उन्हें सम्मान पत्र देकर भी सम्मानित किया। इस सारे कार्यक्रम के नोडल अधिकारी डीआरओ श्याम लाल को बनाया गया था।

Share This Post:-
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *